karuwaki logo

नवरात्रि का ९ वें दिन:माता सिद्धिदात्री

Oct. 14, 2021, 6:08 a.m. by Karuwaki Speaks ( 556 views)

Share via WhatsApp

नवरात्रि की नौवें दिन माता सिद्धिदात्री की पूजा अर्चना की जाती है. माता सिद्धिदात्री की पूजा करने से भक्तों के हर कष्ट मिट जाते हैं. मान्यता है कि इस दिन विधि पूर्वक पूजा करने से सभी प्रकार की सिद्धियां प्राप्त होती हैं.

Responsive image

धरती से असुरों के अत्याचारों को समाप्त करने के लिए ही मां दुर्गा ने नवरात्रि के नवें दिन मां सिद्धिदात्री के रूप में अवतार लिया था. नवरात्रि का आरंभ प्रतिपदा से होता है. इस दिन से लेकर नवमी तक संपूर्ण दैत्यों का मां दुर्गा अपने अलग अलग रूपों से वध करती हैं. अंतिम दिन यानि नवें दिन मां दुर्गा सिद्धिदात्री के अवतार लेकर सभी कार्यों को सिद्ध करती हैं. इस दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा करने से मोक्ष की कामना भी पूरी होती है.

Responsive image

मां सिद्धिदात्री की चार भुजाएं हैं. मां के उपर के दाहिने हाथ में चक्र नीचे वाले में गदा और ऊपर के बाएं हाथ में शंख तथा नीचे वाले हाथ में कमल का फूल धारण किए हुए हैं. मां के गले में दिव्य माला शोभित हो रही है. यह कमलासन पर आसीन हैं. इनकी सवारी सिंह है. मां सिद्धिदात्री कष्ट, रोग, शोक और भय से भी मुक्ति दिलाती हैं.

Responsive image

पौराणिक कथा के अनुसार मां सिद्धिदात्री की कृपा से ही भगवान शंकर का आधा शरीर देवी का हुआ था. इस स्वरूप के कारण ही उन्हें 'अद्र्धनारीश्वर' भी कहा जाता है.

Responsive image

इस दिन पूजन के बाद मां को विदाई दी जाती है. इस दिन स्नान करने के बाद चौकी पर मां सिद्धिदात्री को स्थापित करें. इसके बाद आवाहन करें. पुष्प अर्पित करें. अनार का फल चढ़ाएं. नैवेध चढ़ाएं. मिष्ठान, पंचामृत और घर में इस दिन बनने वाले पकवान का भोग लगाएं. हवन के बाद घर की कन्याओं का पूजन करें, उन्हें उपहार देकर उनका आर्शीवाद लें.


Comments (1)

user
Mini 8 months, 2 weeks ago
Jai Mata Di